Monday, April 16, 2018

मोदी स्वीडन-ब्रिटेन के दौरे पर आज होंगे रवाना, गांधी के 87 साल बाद लंदन के ऐतिहासिक हॉल में करेंगे संबोधित

नरेंद्र मोदी साेमवार को पांच दिन की विदेश यात्रा पर रवाना होंगे। वे पहले स्वीडन और उसके बाद ब्रिटेन जाएंगे। मोदी मंगलवार को स्टॉकहोम में स्वीडन के प्रधानमंत्री स्टेफान लोफवेन से कई मुद्दों पर बातचीत करेंगे। इसके बाद कॉमनवेल्थ समिट में हिस्सा लेने के लिए मंगलवार रात ही लंदन पहुंचेंगे। वे बुधवार को ऐतिहासिक सेंट्रल हॉल वेस्टमिंस्टर में भारतीयों के साथ ही दुनियाभर के लोगों को 'भारत की बात, सबके साथ’ कार्यक्रम में संबाेधित करेंगे। इसी हॉल में भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान 1931 में महात्मा गांधी ने समसामयिक मुद्दों पर बहस में हिस्सा लिया था। प्रधानमंत्री 20 अप्रैल को भारत लौटते वक्त कुछ वक्त के लिए जर्मनी के बर्लिन शहर में रुकेंगे।
स्वीडन और भारत अच्छे दोस्त
- न्यूज एजेंसी के मुताबिक, मोदी स्वीडन में भारत-नोर्डिक समिट में हिस्सा लेंगे। इसमें फिनलैंड, नार्वे, डेनमार्क और आइसलैंड के प्रधानमंत्री भी शामिल होंगे।
- मोदी ने दौरे से पहले कहा, ''भारत और स्वीडन के बीच लंबे वक्त से दोस्ती है। हमारी साझेदारी लोकतांत्रिक मूल्यों और वैश्विक नियमों की बुनियाद पर टिकी है। स्वीडन हमारे विकास का मूल्यवान साझेदार है।''
- ''मैं और प्रधानमंत्री लोफवेन स्वीडन के बिजनेस लीडर्स के साथ निवेश, साइंस एंट टेक्नोलॉजी, क्लीन एनर्जी और स्मार्ट सिटी के मुद्दे पर रोडमैप तैयार करने के लिए चर्चा करेंगे।''

दुनियाभर में होगा मोदी के कार्यक्रम का प्रसारण
- ब्रिटेन दौरा मोदी के लिए सबसे खास है। लंदन के सेंट्रल हॉल वेस्टमिंस्टर में बुधवार को उनका कार्यक्रम महात्मा गांधी और मार्टिन लूथर किंग जैसे नेताओं के नक्शेकदम पर होगा। इसे यूरोप इंडिया फोरम आयोजित कर रहा है। इसका पूरी दुनिया में प्रसारण किया जाएगा।
- सेंट्रल हॉल वेस्टमिंस्टर कार्यक्रम में मोदी दुनियाभर के लोगों का सोशल मीडिया के जरिए पूछे जाने वाले सवालों का जवाब भी देंगे। इस कार्यक्रम के लिए 2 हजार लोगों को ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन के जरिए चुना गया है। 
- इसी हॉल में भारतीय स्वतंत्रता आंदोलन के दौरान 1931 में महात्मा गांधी ने समसामयिक मुद्दों पर बहस में हिस्सा लिया था। इसके अलावा यहां मार्टिन लूथर किंग, दलाई लामा और प्रिंस डायना जैसे नामी हस्तियां भी संबोधन दे चुकी हैं।

सिर्फ मोदी को लिमोजीन कार में सफर की इजाजत
- मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, कॉमनवेल्थ समिट में आने वाले 52 देशों के प्रमुखों में से मोदी अकेले प्रधानमंत्री होंगे, जिन्हें वहां लिमोजीन कार से सफर करने की इजाजत होगी। - अन्य देशों के नेता समिट के दौरान कोच (बस) से सफर करेंगे। 2009 के बाद से कॉमनवेल्थ समिट में हिस्सा लेने वाले नरेंद्र मोदी पहले भारतीय पीएम होंगे।

थेरेसा मे से मोदी की द्विपक्षीय बातचीत 
- नरेंद्र मोदी और ब्रिटेन की प्रधानमंत्री थेरेसा मे के बीच द्विपक्षीय बातचीत होगी। दोनों प्रधानमंत्री दूसरी बार एक इवेंट में मिलेंगे, इसे मोदी के लिए ही आयोजित किया जा रहा है।
- साथ ही मोदी उन तीन नेताओं में से भी एक हैं, जिन्हें बकिंघम पैलेस में महारानी एलिजाबेथ से निजी मुलाकात के लिए निमंत्रण दिया गया है। राष्ट्रमंडल सरकार की बैठक (चोगम) में पाक के प्रधानमंत्री शाहिद खकान अब्बासी और राष्ट्रपति ममनून हुसैन भी शामिल होंगे।

मोदी कब कहां पहुंचेंगे? 
17 अप्रैल: स्वीडन की राजधानी स्टॉकहोम में वहां के पीएम से मुलाकात करेंगे।
18 अप्रैल: लंदन के ऐतिहासिक सेंट्रल हॉल में दुनियाभर के लोगों को संबोधित करेंगे।
19 और 20 अप्रैल: लंदन में कॉमनवेल्थ समिट में शामिल होंगे।
20 अप्रैल: भारत लौटते वक्त बर्लिन में रुकेंगे और चांसलर एंजेला मर्केल से मिलेंगे।

0 comments: